बड़ी खबर राजनीती

बीआरजेपी ने शुरू किया जर्जर पाइपों की मरम्मती, विभाग के कार्य पर शुरू हुआ सड़क छाप राजनीति

By- गुलशन सिंह

(बक्सर ऑनलाइन न्यूज):- डुमराँव नगर के विभिन्न जगहों पर पिछले कुछ दिनों से बीआरजेपी(बिहार राज्य जल पर्षद) द्वारा टूटे-फूटे नलों के साथ जर्जर पड़े पाइप लाइनों की मरम्मती का कार्य प्रारंभ कर दिया गया हैं किन्तु,इसके साथ ही कुछ लोग विभाग के इस कार्य को राजनीतिक रूप देने से नही चूक रहें हैं। बता दें कि जर्जर पाइपों के मरम्मती का पूरा-पूरा श्रेय ये लोग फेसबुक,वाट्सअप पर जिलाधिकारी तथा कार्यपालक अभियंता को मैसेज के रूप में धन्यवाद ज्ञापन जारी कर अपने ऊपर लेने के साथ सभ्य लोगो को उल्लू बनाने के चक्कर मे जुट गए हैं। इन लोगो द्वारा मैसेज में यह कहा जा रहा हैं कि उनके बारम्बार प्रयासों के बाद डुमराँव में जर्जर पाइपों की मरम्मती का कार्य शुरू किया गया हैं। फेसबुक और वाट्सअप पर वायरल किये गए इस मैसेज के आधार पर जब इस बारे में अनुमंडलीय कार्यपालक अभियंता से सम्पर्क कर पूरी मामले की पड़ताल की गई तो बात कुछ और ही सामने निकल कर आई।

क्या कहते हैं कार्यपालक अभियंता

उन्होंने बताया कि शहर में जर्जर पाइपों की मरम्मती में नगरपालिका का कोई हाथ नही हैं इस कार्य को बिहार राज्य जल पर्षद करवा रही हैं यह उसी का कार्य हैं। उन्होंने बताया कि समय समय पर पाइपों तथा सार्वजनिक नलों को रिस्टोर करना बीआरजेपी का कार्य होता है अभी इसे 2020 तक बीआरजेपी मरम्मती करवाती रहेगी,इस बार भी वही हुआ हैं जिसे फिर से शुरू किया गया हैं बीआरजेपी नाम की संस्था राज्य सरकार के अधीन रह कर शहरों में पाइप लाइन बिछाना या उनका मरम्मत करने का कार्य करती हैं। उन्होंने यह भी कहा कि यदि इस पर राजनीति हो रही हैं तो यह गलत हैं इसमें नप का कोई भूमिका नही हैं। राजनीति करने वालों का तो काम ही हैं कि एक बार किसी सरकारी कार्यलय में कोई आवेदन दे दिया फिर उसके बाद जितने भी विकास कार्य किये जायेंगे सबका श्रेय अपने ऊपर ले लेंगे।

वही अधिक जानकारी के लिए जिलाधिकारी राघवेंद्र सिंह से सम्पर्क किया गया तो उनसे बात नही हो पाई। फिलहाल,जो लोग बिना ज्ञान के पाइपों की मरम्मती पर सड़क छाप राजनीति कर रहें हैं उन्हें इससे बचना चाहिए,विभाग के कार्य को अपना प्रयासों का श्रेय देना उचित नही हैं इससे उनकी राजनीति चमकने की बजाय बुझ सकती हैं क्योंकि जिस जनता को ये नेता टाइप के लोग मूर्ख बनाने का कार्य कर रहें हैं शायद उन्हें ये पता नही कि अब पहले वाला समय नही रहा कि कार्य किसी और का तथा शिलापट्ट पर नाम अपना लिखवा दिए।