बड़ी खबर

किसानों एवं पशुपालको की समस्याओं पर कृषि मंत्री डॉ प्रेम कुमार ने कही ये बातें,पूरा पढें…

By- गुलशन सिंह

(बक्सर ऑनलाइन न्यूज़):- कृषि कार्य में किसानों को नहीं होगी कोई परेशानी, विभाग पूरी तरह सतर्क हैं। उक्त बातें बिहार के कृषि मंत्री डॉ प्रेम कुमार ने कोरोना संक्रमण से बचने हेतु विभागीय दिशा निर्देश देते समय कहा। गुरुवार को कोरोना वायरस के कारण उत्पन्न परिस्थितियों में कृषकों एवं पशुपालकों के समक्ष उत्पन्न परिस्थितियों पर कृषि एवं पशुपालन विभाग के वरीय पदाधिकारियों के साथ कृषि मंत्री डॉ प्रेम कुमार ने एक आकस्मिक बैठक आयोजित की।

इस बैठक में कृषि एवं पशुपालन सचिव श्री श्रवण कुमार, कृषि निदेशक आदेश तितरमारे, पशुपालन निदेशक विनोद सिंह गुंजियाल उपस्थित रहे। वही बैठक के उपरांत मंत्री ने बताया कि आपदा की इस घड़ी में किसानों एवं पशुपालकों को घबराने की कोई आवश्यकता नहीं है. सरकार किसानों एवं पशुपालकों के लिए हर संभव उपाय कर रही है।

उन्होंने कहा कि किसान भाई-बहन को कृषि कार्य करने में कोरोना संक्रमण से बचने हेतु कृषि विभाग द्वारा दिए गए दिशा-निर्देश का पालन करना चाहिए। उन्होंने कहा कि फसल कटनी एवं दवनी के कार्य यथासंभव समय से पूरा किया जाए तथा इसके लिए ज्यादा से ज्यादा मशीन आदि का उपयोग किया जाए. यंत्र तथा थ्रेसर के उपयोग के समय दिन में कम से कम 3 बार उपकरण को साबुन पानी से अच्छी तरह धोकर संक्रमण रहित किया जाए। मशीन के चालन हैंडलिंग की विशेष सफाई की जाए. फसल कटनी एवं दवनी करते समय खेत में या थ्रेशर फ्लोर पर एक दूसरे व्यक्ति के बीच कम से कम 2 मीटर की दूरी बनाकर रखी जाए. यह जान ले कि संक्रमण रोकने के लिए सामाजिक दूरी सबसे उपयोगी हथियार है।

मंत्री ने कहा कि हमें मिलजुल कर इस समस्या से निपटना है उन्होंने यह भी कहा कि मजदूर अपने खाने का बर्तन अलग अलग रखें तथा खाने खाना खाने के बाद इसे अच्छी तरह धो लें. पीने के पानी का बोतल अलग-अलग रखें. प्रत्येक व्यक्ति अलग-अलग कटाई उपकरण का उपयोग करें, एक दूसरे के यंत्र को बदल बदल कर कदापि उपयोग नहीं करें, कटनी एवं दवनी के दौरान कुछ कुछ समय पर साबुन पानी से हाथ धोते रहें, कटनी एवं दवनी के समय पहने गए कपड़ों का दोबारा उपयोग होने के बाद अच्छी तरह धूप में सुखाकर ही करें कटनी, वही दवनी के समय नाक व मुंह को ढकने के लिए मास्क का उपयोग करें, जीविका समूह के द्वारा तैयार मास्क का उपयोग किया जा सकता है। मंत्री प्रेम कुमार ने कहा कि अगर किसी व्यक्ति को सर्दी ,जुकाम, सिर दर्द, बुखार के लक्षण हो तो तो उन्हें कदापि कटाई एवं दवनी कार्य में नहीं लगाएं तथा बीमार व्यक्ति की सूचना निकट के स्वास्थ्य कर्मी को दें, खेत में एवं थ्रेशिंग फ्लोर पर पर्याप्त मात्रा में पानी की व्यवस्था रखें, उन्होंने कहा कि सावधानी ही बचे रहने का सर्वश्रेष्ठ उपाय है। केंद्र एवं राज्य सरकार द्वारा समय-समय पर दिए निर्देशों का शत-प्रतिशत पालन करें ,फसल कटने के उपरांत फसल अवशेष को जलाना नहीं है उसका उचित प्रबंध करें, कृषि मंत्री ने कहा कि खेती से जुड़े आवश्यक उत्पादक, उर्वरक, बीज, कीटनाशक आदि के दुकानों को खुला रखने का निर्देश दिया गया है। किसान भाइयों को यदि किसी प्रकार की असुविधा हो तो विभाग के टोल फ्री नंबर 1801 801 551 पर संपर्क स्थापित कर सकते हैं।

इसके अलावा अपने निकटतम किसान सलाहकार, कृषि समन्वयक, प्रखंड कृषि पदाधिकारी ,जिला कृषि अधिकारी से संपर्क कर सकते हैं।